विभाग विवरण

कम्प्युटर विभाग

संभावना में कंप्यूटरीकरण की भूमिका -

भोपाल गैसकाण्ड से जो तबाही हुई, इससे पहले ऐसी तबाही पहले कहीं नहीं हुई। चूँकि इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ जिसके कारण गैसकांड की वजह से हुई बीमारियों का इलाज कैसे होना है, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी। लोगों को सही इलाज मिले इसके लिए जरूरी है की उनके इलाज के आँकड़ों को व्यवस्थित तरीके से रखा जाए और नियमित रूप से उनका विश्लेषण किया जाए ताकि उन्हे लक्षण आधारित चिकित्सा दी जा सके। बड़ी संख्या में इलाज लेने वालों के आँकड़ो का कागज पर विश्लेषण करना सम्भव नहीं है इसलिए चिकित्सीय आँकड़ों का कम्प्युटरीकरण आवश्यक है।

कंप्यूटरीकरण से फ़ायदा

1.   इलाज लेने वालों की सम्पूर्ण जानकारी जैसे पूर्व लक्षण, निदान, जाँच इत्यादि जानकारियाँ आसानी से देख सकते हैं जिससे उपयुक्त इलाज देने में आसानी होती है।

2.   इलाज लेने वाले जिन्होने किसी वजह से इलाज बीच में ही छोड़ दिया है और उन्हे इलाज की आवश्यकता है उनकी जानकारी डेटाबेस से निकालकर उन्हे बुलाया जाता है और उचित परामर्श एवं इलाज मुहैया किया जाता है।

3.   यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है की इलाज लेने वालों को प्रोटोकॉल के अनुसार इलाज दिया जा रहा है।

4.   दवाइयों की खरीदी और खपत की जानकारी रखने में आसानी होती है।