हमारी जरूरत क्यों

Awards

भोपाल में गैस काण्ड के 30 वर्ष बाद एक लाख से ज्यादा लोग अभी भी शरीर के लगभग सभी तंत्रो को पहुचे नुकसान की वजह से गम्भीर एंव दीर्धकालीन बीमारियो से पीड़ित हैं। इसके साथ ही करीब 50000 लोग जो रसायन से प्रदूषित भूजल को लगातार 14 से 20 सालो से इस्तेमाल कर रहे हैं, उनमे कई तरह की बीमारियो के साथ – साथ जन्मजात विकृतियो की सम्भावना अधिक पाई गई है। इस मद पर भारी खर्च करने के बाबजूद पीड़ितो की इलाज व्यवस्था में गम्भीर खामियाँ हैं। पीड़ित आबादी के इलाज के बारे में यूनियन कार्बाइड और भारत सरकार की घोर लापरवाही के मद्देनज़र सम्भावना ट्रस्ट क्लीनिक ने 2 सितम्बर 1996 को पीड़ितो के इलाज का काम शुरू किया। सम्भावना ट्रस्ट द्वारा संचालित दवाखाना पीड़ितो की दीर्धकालीन स्वास्थ्य से संबंधित एक स्वतंत्र, समुदाय आधारित, गैर सरकारी प्रयास है जो आधुनिक और पारम्परिक चिकित्सा विधियो के ज़रिये पीड़ितो को मुफ्त इलाज मुहैया कर रहा है।

सम्भावना में केवल गैस पीड़ितो और प्रदूषित भूजल पीड़ितो लोगों को ही इलाज के लिए पंजीकृत किया जाता है और गंभीर रूप से प्रभावित बस्तियो के लोगों को इलाज में प्राथमिकता दी जाती है। साथ ही दिसम्बर 1986 तक जन्मे गैस पीड़ित माता-पिता की संतानों का भी पंजीयन होता है क्योकि सम्भावना के शोध द्वारा यह साबित हुआ है की इन पर भी गैस त्रासदी का दुष्प्रभाव पड़ा है। सम्भावना में इलाज के लिए महिलाए पुरुषो से दुगनी संख्या में आती हैं।